COMMODITY MARKET : शेयर मार्किट से भी तगड़ा पैसा

COMMODITY MARKET : शेयर बाजार के साथ तुलना में कमोडिटी बाजार भी एक महत्वपूर्ण वित्तीय बाजार है। यहाँ हम एक ऐसे बाजार के बारे में जानेंगे जिसमें प्रतियोगितात्मक भावनाओं पर आधारित व्यापार होता है। हम लोग दैनिक आवश्यकताओं के लिए सामान खरीदते हैं, जिसे ‘कमोडिटीज़’ कहा जाता है,

और इन कमोडिटीज़ की बाजार में व्यापार होता है, जिसका नाम ‘कमोडिटी बाजार‘ है। इस बाजार में कमोडिटीज़ की मूल्य भविष्य में परिवर्तित नहीं होने का वादा किया जाता है। इसे ‘कमोडिटी मार्केट’ कहा जाता है। इसमें निवेश करने के लिए आपके पास एक ‘डीमैट खाता’ होना आवश्यक होता है।

सरकारी बॉन्ड्स में निवेश: Bond Scheme For Retail Investors In Hindi

सोना और तेल इन कमोडिटीज़ में सबसे प्रमुख होते हैं, और इनकी मूल्य बदलती रहती है। हालांकि, इस बाजार में अन्य भी प्रकार की कमोडिटी व्यापारिकता होती है, जैसे की चांदी, प्लैटिनम, कॉपर, जिंक, निकल, एल्यूमिनियम, क्रूड ऑयल, प्राकृतिक गैस, अनाज और मसाले।

भारत में कमोडिटी बाजार में अधिकांश व्यापार ‘फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट’ पर होता है, इसलिए इसे समझने के लिए ‘फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट’ की जानकारी आवश्यक है।

इसका मतलब होता है कि निवेशक आज की मूल्य पर किसी भी कमोडिटी को भविष्य में खरीद सकते हैं। यह उन्हें महंगाई के जोखिम से बचाता है।

What are bonds: मार्केट जैसा रिस्क नहीं और हाई रिटर्न भी, जानें क्या होते हैं बॉन्ड्स, और कैसे करेंगे इसमें निवेश

कमोडिटी बाजार में कोई कमोडिटी व्यापार नहीं होता, बल्कि केवल कमोडिटीज़ की खरीददारी और बेचदारी होती है। पोजिशन की पुष्टि के लिए रसीद मिलती है।

शेयर बाजार की तरह, कमोडिटी व्यापार के लिए भी ‘कमोडिटी एक्सचेंज’ बनाए गए हैं। भारत में कमोडिटी बाजार की शुरुआत तो 100 साल पहले हो गई थी, लेकिन कानूनी रूप से 2003 से इसे प्रारंभ किया गया था।

वर्तमान में भारत में 22 कमोडिटी एक्सचेंजेस हैं, लेकिन में से 4 सबसे लोकप्रिय हैं – एमसीएक्स, आईसीईएक्स, एनएमसीई, और एनसीडेक्स।

COMMODITY MARKET की प्रक्रिया कैसी होती है?

अगर आप ‘फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट‘ खरीदने जाते हैं, तो आपको पूरी कमोडिटी की कीमत नहीं देनी पड़ती है, बल्कि केवल ‘मार्जिन‘ देना होता है, जो मूल बाजार मूल्य और निर्धारित तिथि के बीच का अंतर होता है।

शेयर और कमोडिटी एक्सचेंज में एक महत्वपूर्ण अंतर यह है कि शेयर बाजार में आप एक बार खरीदी गई स्टॉक को जब चाहें बेच सकते हैं, जबकि कमोडिटी बाजार में खरीदे गए ‘फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट‘ का समय सीमित होता है।

COMMODITY MARKET के लाभ

इसमें निवेश करने का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इससे निवेशक का पोर्टफोलियो विविध हो जाता है। इसके माध्यम से निवेशक स्टॉक बाजार में होने वाली नुकसान को संतुलित कर सकते हैं।

यह एक महत्वपूर्ण उपाय होता है अग्रिकल्चर में निवेश को बढ़ावा देने का। अगर आप इस बाजार में निवेश करना चाहते हैं, तो आपको विशेषज्ञों की सलाह लेनी चाहिए।

Paisa Bazar Se Loan Kaise Le

Leave a Comment